TET Online Practice Set-2 Sanskrit

UPTET, CTET, Bihar TET

ये TET Online Practice Set-2 Sanskrit पुरे TET Online Practice Set-2 का हिंदी का एक भाग है| यह 30 अपठित प्रश्नों का संग्रह है जो संस्कृत विषय से लिया गया है |

जब आप इस Mock test को पूरा कर लेंगे तब अंत में आपके द्वारा प्राप्त किये गए अंक आपको दिखेगा और सभी प्रश्नों के सही उत्तर भी बताये जांयेंगे |

इस प्रश्नावली में आपको संस्कृत के अति महत्वपूर्ण प्रश्न मिलेंगे जो UPTET, CTET, Bihar TET, MPTET, Rajasthan TET, UP Super TET की तैयारी में सहायक होंगे |

इस TEST से आपको UPTET, CTET, Bihar TET, Rajasthan Tet और Madhya Pradesh TET आदि में मदत मिलेगी |


TET Online Practice Set-2 Sanskrit

 

1. मैं मुख से बोलता हूँ ” वाक्य का अनुवाद होगा । 

 
 
 
 

2.  पुत्र – प्राप्ति की कामना से राजा दिलीप ने किस ऋषि के आश्रम में गो सेवा की ?

 
 
 
 

3.  संस्कृत में प्रसिद्ध नाटककार विशाखदत्त की कृति का नाम है । 

 
 
 
 

4. ‘ मया रामः दृश्यते ‘ , वाक्य का वाच्य – परिवर्तन करने पर वाक्य होगा । 

 
 
 
 

5. ‘ सम्प्रति वायु – प्रदूषणस्य दूरीकरणाय नगरे उद्यानम् आवश्यकम् ।’ वाक्य में ‘ अव्यय ‘ पद है : 

 
 
 
 

6.  फ्लैश कार्ड ‘ शिक्षण – अधिगम सामग्री है : 

 
 
 
 

7. आभ्यन्तर प्रयत्न के प्रकार हैं 

 
 
 
 

8.  परिमाण मात्र में कौन – सी विभक्ति होती है ? 

 
 
 
 

9. शाल्मली वृक्ष ‘ का वर्णन किस ग्रन्थ में प्राप्त होता है ? 

 
 
 
 

10. अकथितं च ‘ सूत्र के अन्तर्गत कितनी द्विकर्मक धातुए है ?

 
 
 
 

11.  मनुस्मृति ‘ के अनुसार धर्म के लक्षण हैं : 

 
 
 
 

12.  क्रीडनकम ‘ शब्द का अभिप्राय है : 

 
 
 
 

13. चतुस्त्रिशत् ‘ संख्या है ।

 
 
 
 

14. ‘ नवपलाशपलाशवन ‘ में अलर्डकार है । 

 
 
 
 

15. . क्रिया में वर्तमानकालिक निरन्तरता द्योतित करने के लिए प्रयुक्त होने वाला प्रत्यय है : 

 
 
 
 

16. आश्रमे वटाश्वत्थनिम्बाशोकाम्रमलक – वृक्षाः आसन् ‘ वाक्य में उल्लिखित वृक्षों की संख्या है 

 
 
 
 

17.  श्लोक के एक – एक पद का अर्थ करते जाना , किस प्रणाली का द्योतक है 

 
 
 
 

18.  अनाथपरिपालनं हि धर्मः अस्मदविधानम ‘ सूक्ति का सम्बन्ध है

 
 
 
 

19. . संस्कृत भाषा में कहानी शिक्षण करते समय शिक्षक को बचना चाहिए

 
 
 
 

20. हरये रोचते भक्ति : वाक्य में ‘ हरये पद में विभक्ति है 

 
 
 
 

21.  विजातीय पद का चयन कीजिए : 

 
 
 
 

22.  ‘ तस्मै ’ पद का विभक्ति एवं वचन है : 

 
 
 
 

23.  संस्कृत – काव्य शिक्षण का उद्देश्य नहीं है – छात्रों को ।

 
 
 
 

24. गद्य शिक्षण में किसका विशेष महत्त्व नहीं है ? 

 
 
 
 

25.  ‘ जानीहि ‘ ‘ ज्ञा ‘ धातु का रूप होता है 

 
 
 
 

26. अर्जुन के धनुष का नाम है : 

 
 
 
 

27. भूतपूर्वः ‘ इस समस्त पद का विग्रह होगा : 

 
 
 
 

28. व्यायामेन शरीर स्वस्थं भवति । वाक्य के रेखाङिकत पद में प्रयुक्त कारक है : 

 
 
 
 

29.  उपेन्द्रः पद का संधि – विच्छेद है : 

 
 
 
 

30.  ” सकार ‘ का ‘ शकार ‘ से योग होने पर क्या परिवर्तन होता है ? 

 
 
 
 

Question 1 of 30



%d bloggers like this: